बैंकिंग एवं वित्तीय सचेतना – भाग 57

Site Administrator

Editorial Team

10 Jun, 2014

1277 Times Read.

बैंकिंग जागरूकता,


RSS Feeds RSS Feed for this Article



Read this in English

SBI-Logo-2

1) भारत का सबसे बड़ा बैंकिंग समूह स्टेट बैंक ऑफ इण्डिया (SBI) 10 अप्रैल 2014 को विदेश से बाण्ड-निर्गम (overseas debt sale programme) के माध्यम से सबसे अधिक धन एकत्र करने वाला घरेलू वित्तीय समूह बन गया। बैंक ने कितने मूल्य के विदेशी ऋण बाण्ड्स का सफल निर्गम करने में सफलता प्राप्त की? – 1.25 अरब डॉलर (उल्लेखनीय है कि बैंक ने दो प्रकार के बाण्ड जारी किए हैं। 75 करोड डॉलर मूल्य के पाँच-वर्षीय बाण्ड को अमेरिकी ट्रेज़री की ब्याज दर के 205 बेसिस प्वाइंट ऊपर की दर पर निर्गत किया गया है जबकि 10-वर्षीय अवधि के 50 करोड डॉलर मूल्य के बाण्ड्स को अमेरिकी ट्रेज़री की ब्याज दर के 225 बेसिस प्वाइंट ऊपर की दर पर निर्गत किया गया है। यह बाण्ड्स बिक्री कार्यक्रम 10 अप्रैल 2014 को सम्पन्न हो गया)

…………………………………………………………………….

2) कौन सा देश विदेशों से भारत में होने वाले प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (foreign direct investment – FDI) के मामले में वर्ष 2013 के दौरान मॉरीशस को पीछे छोड़कर सबसे बड़ा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश करने वाला देश बन गया है? – अमेरिका (भारत के पूँजी बाजार की नियामक संस्था SEBI द्वारा हाल ही में जारी आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2013 की समाप्ति तक अमेरिका से भारत के इक्विटी और ऋण बाजार में होने वाले FDI की कुल मात्रा 4.37 लाख करोड़ रुपए थी जबकि समान समयावधि के दौरान मॉरीशस से इसी वर्ग में हुआ कुल निव्रेश 3.31 लाख करोड़ रुपए था। उल्लेखनीय है कि मॉरीशस पिछले काफी समय से भारत में होने वाले FDI का सबसे बड़ा जरिया बना हुआ था)

…………………………………………………………………….

3) उस अंतर्राष्ट्रीय वित्त संस्थान का क्या नाम है जिसने 11 अप्रैल 2014 को अपने पहले रूपया-आधारित वैश्विक बाण्ड बिक्री कार्यक्रम (first global rupee bond programme) को सफलतापूर्वक पूरा किया? – इंटरनेशनल फाइनेंस कॉर्पोरेशन – IFC (वाशिंगटन डी.सी. में मुख्यालय वाले इस अंतर्राष्ट्रीय संगठन ने तीन दौर में इस रूपया-आधारित वैश्विक बाण्ड बिक्री कार्यक्रम को पूरा किया। इसका मुख्य उद्देश्य भारतीय वित्तीय बाजार की स्थिति को मजबूत करना तथा अधिकाधिक विदेशी निवेश को इसकी ओर आकर्षित करना है)

…………………………………………………………………….

4) विश्व बैंक के इंटरनेशनल क्म्पेरिज़न प्रोग्राम (ICP) द्वारा अप्रैल 2014 के दौरान जारी आंकड़ों में इस बात का खुलासा हुआ कि भारत जापान और ब्रिटेन जैसे अर्थव्यवस्थाओं का पछाड़ कर विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गई है। आकड़ों में यह तथ्य भी उजागर हुआ कि 2005 में भारत का स्थान विश्व में दसवाँ था। ICP द्वारा विभिन्न अर्थव्यवस्थाओं की यह रैंकिंग किस आधार पर की गई थी? – परचेसिंग पॉवर पैरिटी (PPP) के आधार पर (इसमें बजाय अर्थव्यवस्थाओं के वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की परस्पर तुलना के देशों द्वारा उत्पन्न क्रय शक्ति के आधार पर तुलना की जाती है। ICP ने अपने इस अध्ययन में इस बात का खुलासा किया कि क्रय शक्ति के आधार पर दुनिया के सभी देशों का कुल सकल घरेलू उत्पाद 90,647 अरब डॉलर है)

…………………………………………………………………….

5) 1 अप्रैल 2014 से लागू नए कम्पनी कानून (कम्पनी कानून 2013) के चलते लगभग 200 सूचीबद्ध कम्पनियों को अपने ऑडिटर्स को आगामी 3 वर्ष के भीतर बदलना होगा। इस नए कम्पनी कानून के अंतर्गत कितने साल में कम्पनियों को अपने ऑडिटर्स को बदलने का प्रावधान किया गया है? – दस साल (उल्लेखनीय है कि कम्पनी कानून 2013 के हाल ही में जारी अनुच्छेद 139 के अनुसार अब कम्पनियों को अपने खातों की जांच करने वाली ऑडिट फर्म को दस साल में बदलना होगा। ऐसा कम्पनियों में अधिक पारदर्शिता बरतने तथा कम्पनी प्रबंधन तथा ऑडिटर्स के बीच कथित तौर पर सुमधुर सम्बन्ध होने की प्रवृत्तियों के मद्देनज़र किया गया है)

…………………………………………………………………….

6) अप्रवासी निवासियों द्वारा अपने देश को भेजी जानी वाली विदेशी मुद्रा (foreign exchange remittances from its migratory workforce) के आकार के आधार पर ऐसे देशों की वर्ष 2013 की सूची में भारत ने एक बार पुन: प्रथम स्थान हासिल किया। भारत को इस माध्यम से मिलने वाली कुल प्राप्तियाँ इस वर्ष कितनी रही? – 70 अरब डॉलर (उल्लेखनीय है कि भारत को 2013 के दौरान भी इस माध्यम से विश्व में सर्वाधिक प्राप्तियाँ हासिल हुईं। इस माध्यम से सर्वाधिक धनराशि प्राप्त करने वाले 10 देशों की सूची में भारत के बाद क्रमश: चीन (60 अरब डॉलर), फिलीपीन्स (25 अरब डॉलर), मैक्सिको (22 अरब डॉलर), नाइजीरिया (21 अरब डॉलर), मिस्र (17 अरब डॉलर), पाकिस्तान (15 अरब डॉलर), बांग्लादेश(14 अरब डॉलर), वियतनाम (11 अरब डॉलर) और यूक्रेन (10 अरब डॉलर) का स्थान रहा। यह आँकड़ा विश्व बैंक द्वारा हाल ही में जारी किया गया। विदेशों में रह रहे भारतीयों से भारत को प्राप्त हो रही धनराशि के बारे में एक और महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि यह प्राप्तियाँ भारत के निर्यात के अत्यंत महत्वपूर्ण अंग सॉफ्टवेयर सेवाओं के निर्यात से प्राप्त कुल धनराशि (65 अरब डॉलर) से भी अधिक है)

…………………………………………………………………….

7) किन दो बड़ी अंतर्राष्ट्रीय सीमेण्ट उत्पादन कम्पनियों ने 7 अप्रैल 2014 को आपस में मिलने की घोषणा की जिसके चलते विश्व की सबसे बड़ी सीमेण्ट कम्पनी संस्थापित हो जायेगी? – स्विट्ज़रलैण्ड की हॉलसिम (Holcim) तथा फ्रांस की लफार्ज (Lafarge) (उल्लेखनीय है यह दोनों कम्पनियां मिलकर एक नई सीमेण्ट कम्पनी ‘लफार्जहॉलसिम’ (‘LafargeHolcim) की रचना करेंगी। नई बनने वाली इस कम्पनी की वार्षिक बिक्री 44 अरब डॉलर होगी तथा इसके सीमेण्ट उत्पादन संयंत्र विश्व के 90 देशों में संचालित होंगे)

…………………………………………………………………….

8) 14 अप्रैल 2014 को किसे नया वित्त सचिव (Finance Secretary) नियुक्त किया गया? – अरविन्द मायाराम (अरविन्द मायाराम अब तक आर्थिक मामलों के सचिव थे तथा वे 31 मार्च 2014 को सेवानिवृत्त हुए सुमित बोस का स्थान लेंगे)

…………………………………………………………………….

9) कौन सा सुप्रसिद्ध अमेरिकी बैंक अप्रैल 2014 के दौरान उस समय चर्चा में आया जब उसके द्वारा गलत गणना किए जाने के कारण हाल ही में उसके पूँजी स्तर में 4 अरब डॉलर की कमी दर्ज की गई? – बैंक ऑफ अमेरिका (बैंक ऑफ अमेरिका (BoA) अमेरिका का दूसरा सबसे बड़ा बैंक है। इस बैंक ने 28 अप्रैल 2014 को घोषणा की कि देश की प्रतिभूति नियामक संस्था ने उसके बाय-बैक तथा लाभांश जारी करने की कोशिश को उस समय निलंबित कर दिया जब यह तथ्य सामने आया कि गलत गणना किए जाने के कारण गलती से बैंक की पूँजी में 4 अरब डॉलर की कमी दर्ज की गई है)

…………………………………………………………………….

10) भारतीय बैंकिंग क्षेत्र की किस दिग्गज हस्ती को 11 अप्रैल 2014 को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) व IPL के अंतरिम प्रमुख नियुक्त किए गए सुनील गावस्कर का विशेष सलाहकार नियुक्त किया गया? – दीपक पारेख (दीपक पारेख हाउसिंग डेवलपमेण्ट फाइनेंस कॉरपोरेशन (HDFC) के अध्यक्ष हैं। वे IPL की गवर्निंग काउसिंल की बैठक में विशेष आमंत्रित सदस्य के रूप में भाग लेंगे। माना जा रहा है कि अपने वर्षों के वित्तीय अनुभव का इस्तेमाल वे सुनील गावस्कर को प्रदान कर अगले दो महीने के दौरान चलने वाले IPL के निर्बाध संचालन में करेंगे)

…………………………………………………………………….


Responses on This Article

Previous Responses on This Article

  1. SUNIL KUMAR THAPA says:

    Thank u so much sir/mem

© NIRDESHAK. ALL RIGHTS RESERVED.