Login | Register

Connect with:
Connect with: or

24 मार्च 2013 – आज का करेण्ट अफेयर्स कैप्स्यूल (CURRENT AFFAIRS – 24 MARCH 2013)

  • Posted by on March 24, 2013
Read in English

Read this in English

Nikhilkumar

1) 23 मार्च 2013 को किसे केरल के नए राज्यपाल के रूप में शपथ दिलाई गई? – निखिल कुमार (इससे पहले वे नागालैण्ड के राज्यपाल थे। निखिल कुमार एक सेवानिवृत्त IPS ऑफीसर और NSG के पूर्च निदेशक हैं। जनवरी 2012 में राज्यपाल एमओएच फारूख के निधन के बाद से अभी तक कर्नाटक के राज्यपाल एच.आर. भारद्वाज केरल के राज्यपाल का अतिरिक्त कार्यभार भी देख रहे थे)

2) विश्व के 150 से अधिक देशों में विद्युत की कम खपत कर पर्यावरण और कार्बन उत्सर्जन को घटाने के उद्देश्य से अर्थ ऑवर 2013 (Earth Hour 2013) 23 मार्च 2013 को मनाया गया। इसके तहत हजारों शहरों-कस्बों के नागरिकों ने शाम 8:30 से एक घण्टे के लिए अपनी बिजली को बंद कर दिया। विश्व में पहली बार अर्थ ऑवर का आयोजन कहाँ और कब मनाया गया था? – सिडनी, ऑस्ट्रेलिया में 31 मार्च 2007 को (सिडनी के आयोजन ने पूरी दुनिया का ध्यान अपनी ओर खींचा और धीरे-धीरे इस वार्षिक आयोजन में देशों की संख्या बढ़ती चली गई)

3) 23 मार्च 2013 को भारत के किन तीन राज्यों में उच्च न्यायालयों (High Courts) की विधिवत स्थापना कर दी गई, जिसके बाद देश में अब उच्च न्यायालयों की संख्या 21 से बढ़कर 24 हो गई है? – मणिपुर, मेघालय और त्रिपुरा (उल्लेखनीय है कि इन तीन नए उच्च न्यायालयों के गठन की घोषणा केन्द्र सरकार ने 25 जनवरी 2013 को की थी)

4) भारत के तीन नवीनतम उच्च न्यायालयों (मणिपुर, मेघालय और त्रिपुरा) के मुख्य न्यायाधीशों के रूप में किनकी नियुक्ति 23 मार्च 2013 को की गई? – न्यायमूर्ति अभय मनोहर साप्रे (मणिपुर उच्च न्यायालय), न्यायमूर्ति (श्रीमती) टी. मीनाकुमारी (मेघालय उच्च न्यायालय) और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता (त्रिपुरा उच्च न्यायालय)

5) भारत के सुप्रसिद्ध ग्रामीण प्रबन्धन संस्थान – आणन्द गुजरात स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ रूरल मैनेजमेण्ट (IRMA) के मुख्य कोर्स पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन रूरल मैनेजेमेण्ट (PGDRM) में सीटों की संख्या बढ़ाकर कितनी करने की अनुमति अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (AICTE) ने हाल ही में प्रदान की है? – 60 सीटें (इस सीट वृद्धि के बाद इस पाठ्यक्रम में सीटों की संख्या मौजूदा 120 से बढ़कर 180 हो गई है और यह सीट वृद्दि जून 2013 से प्रभावी हो जायेगी)

6) मालदीव की राजधानी माले में एक अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा बनाने का ठेका हाल ही में किस कम्पनी को प्रदान किया गया है? – ब्रिटेन की कम्पनी लेगन कान्स्ट्रक्शन को – Lagan Construction, UK (उल्लेखनीय है कि पहले लगभग 51 करोड़ डालर का यह ठेका भारत की कम्पनी GMR को दिया गया था लेकिन एकाएक मालदीव ने इस ठेके को रद्द कर दिया था जिससे भारत और मालदीव के बीच राजनयिक सम्बन्धों में काफी खटास आ गई थी)

7) भारत और अमेरिका ने किन दो स्थानों के अंतरिक्ष मिशन के लिए परस्पर सहयोग करने के लिए एक समझौता 22 मार्च 2013 को अमेरिका-भारत सिविल स्पेस ज्वाइंट वर्किंग ग्रुप की वाशिंग्टन डीसी में हुई बैठक के दौरान किया है? – चन्द्रमा और मंगल (उल्लेखनीय है कि वर्ष 2008 में भारत के चन्द्रयान – 1 अभियान में अमेरिकी नासा और इसरो का सहयोग काफी सफल रहा था और अब दोनों एजेंसियाँ इस सहयोग को बढ़ाना चाहती हैं)

8) भारत में निर्माण उद्योग को बढ़ावा देने के लिए निवेश और मैन्यूफैक्चरिंग क्षेत्र को विशेषरूप से समर्थित उस नई जोन्स (Zones) का क्या नाम है, जिनकी स्थापना के बारे में केन्द्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय ने हाल ही में अर्हता शर्ते लागू की हैं? – नेशनल मैन्यूफैक्चरिंग एण्ड इन्वेस्टमेण्ट जोन्स – NMIZs (उल्लेखनीय है कि इन नई प्रस्तावित नई जोन्स की स्थापना किए जाने के पीछे मुख्य उद्देश्य भारत के मैन्यूफैक्चरिंग उद्योग (Manufacturing Sector) की सकल घरेलू उत्पाद में भागीदारी को वर्तमान 16% से बढ़ाकर 25% तक पहुँचाया जाय और वर्ष 2015 तक इस क्षेत्र के द्वारा 10 करोड़ रोजगार का सृजन किया जाय। इन प्रस्तावित जोन्स के तहत कम से कम 5,000 हेक्टेयर की एकीकृत सर्वसुविधायुक्त औद्यौगिक टाउनशिप्स का विकास किया जायेगा, जिसमें से कम से कम 30% मैन्यूफैक्चरिंग उद्योग के लिए आरक्षित रखा जायेगा)

9) हाल ही में चीन और पाकिस्तान के द्वारा किए एक समझौते के द्वारा चीन को पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह का एक प्रकार से पूरा नियंत्रण मिल जाने से आशंकित भारत सरकार ने एक ईरानी बंदरगाह के विकास के लिए 10 करोड़ डालर के कैबिनेट बिल को झटपट अपनी मंजूरी प्रदान कर दी है, जो ग्वादर से मात्र 70 किमी की दूरी पर स्थित है। यह ईरानी बंदरगाह कौन सा है? – चाबहार

10) अंतर्राष्ट्रीय हाकी की सर्वोच्च संस्था FIH ने हाल ही में मलेशिया के कुआलालम्पुर में हुई अपनी कार्यकारिणी बैठक में अंतर्राष्ट्रीय मैचों में पेनाल्टी कार्नर को लेने के लिए एक नई समय-सीमा घोषित की है। यह समय सीमा कितनी है? – 45 सेकेण्ड (उल्लेखनीय है कि FIH अधिकारियों का यह मानना है कि हाकी मैचों में कई बार पेनाल्टी कार्नर लेने में टीमें बहुत अधिक समय लगा लेती हैं जिससे मैच की लय बिगड़ने का खतरा रहता है)

Got Something To Say:

Connect with:

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 Stars
4 Stars
3 Stars
2 Stars
1 Stars

Or Login With:
Facebook
Our
New
Format
Of
Current
Affairs
Visit Now
National
International
Sports
Economy
Awards
Books
Corporate
Now Get Detailed
Current Affairs
Download Free PDF
Multiple Choice Questions
Free Online Tests
Daily Current Affairs
About India
Banking & Finance Awareness

Most Downloaded

13000+ Downloads
12000+ Downloads
11000+ Downloads

Testimonials

Prashanth Reddy Kv

Great info.. as always. The technique lies in the efficiency of the tutor..
Making knowledge accessible – In a fun filled way..
Thank U Team Nirdeshak.
kv

Akash Raje

I am thank full to you from bottom of heart for providing excellent current affair and banking and finance study material..these notes provide much needed knowledge which is key parameter in various exams..thanks a lot sir.

Ankit Negi

Thank you so much sir,
Your team is doing really very fine work. You are providing knowledge to everyone for which is very rare specially in this commercialised education system of India. My heartily thanks and best wishes to your team. My suggestion to you to add donate button to your site so that we can donate a certain part of our first salary if we get success in selection to any of the government competition just because of your hard work contents available on this website. Thank you so much once again.

Neha Deshmukh

Thanx a lot for providing such exhaustive and comprehensive list of current affairs..is really beneficial in the preparation process..thank so much!!!

Vikash Kumar Shaw

Very very much thank you Sir/ Madam. After getting such help I feel that still there are living Gods in this mortal world.